ओम-प्रकाश-चौटाला गए जेल
जानकारी लेटेस्ट

ओम प्रकाश चौटाला क्यों गए जेल के अंदर, आखिर क्या है सचाईं

आज कल एक नाम बहुत ही ज्यादा चर्चे में है और सभी लोगो को उसके बारे में बहुत से सवाल है इसीलिए आज मैं आपको ओम प्रकाश चौटाला के बारे में बहुत सी बाते बताऊंगा जिससे आपके मन में उठ रहे सारे सवाल खतम हो जायेंगे।

क्यों हुई ओम प्रकाश चौटाला को सजा ?

अब हम एक अहम मुद्दे की तरफ बात करते है जिससे आपको पता चलेगा की ओम प्रकाश चौटाला जेल क्यों गए थे। दरअसल हरियाणा में लगभग 3206 जेबीटी शिक्षकों की भर्ती निकाली गई थी और हरियाणा के आई. ए. एस. अधिकारी संजीव कुमार ने इस पर भ्रष्टाचार और रिकॉर्ड से छेड़ छाड़ के आरोप लगाते हुए ओम प्रकाश पर सुप्रीम कोर्ट में शिकायत दर्ज कराई और फिर इस सुनवाई में बात सामने आई और पता चला की ओम प्रकाश चौटाला पर यह आरोप था की उन्होंने प्रत्येक शिक्षक की भर्ती पर लगभग 4 से 5 करोड़ रुपए लिए थे और इसीलिए ओम प्रकाश चौटाला को 9 साल से भी ज्यादा समय तक जेल की सजा काटनी पड़ी।

ओम प्रकाश चौटाला गए जेल

विस्तार

ओम प्रकाश का जन्म एक जनवरी 1935 को सिरसा नामक गांव में हुआ था। दो दिसंबर 1989 को ओम प्रकाश चौटाला को पहली बार हरियाणा के मुख्यमंत्री पद को सौंपा गया और इसके बाद यह मुख्यमंत्री के पद पर 22 मई 1990 तक रहे फिर उसी के कुछ दिनो बाद ही चौटाला ने 12 जुलाई 1990 को मुख्यमंत्री की शपथ ली, जबकि भूतकाल के मुख्यमंत्री बनारसी दास गुप्ता को दो माह में ही पद से हटा दिया गया हालांकि ओम प्रकाश चौटाला को भी 5 दिन बाद ही इस पद से इस्तीफा देना पड़ा था किंतु चौटाला ने फिर से 22 अप्रैल 1991 को मुख्यमंत्री पद को संभाला किंतु वह ज्यादा दिन तक इस पद पर नही रह सके क्योंकि केंद्र सरकार ने प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगा दिया था।

1993 को चौटाला ने नरवाना उपचुनाव जीता उसके बाद 1996 के लोक सभा चुनाव के बाद चौटाला ने एक नई पार्टी बनाई और इसका नाम उन्होंने हरियाणा लोक दल रखा।

उसके बाद ओम प्रकाश चौटाला ने लोकसभा के मध्यावधि चुनाव में बसपा से गठबंधन कर हरियाणा में पांच लोक सभा की सीटे हासिल की। इसके कुछ समय बाद ही उनके दल को मान्यता मिल गई, फिर इन्होंने अपनी पार्टी का नाम बदल कर इंडियन नेशनल लोकदल रख दिया। 

ओम प्रकाश चौटाला बने मुख्यमंत्री

24 जुलाई 1999 में ओम प्रकाश चौटाला ने फिर से चुनाव में खड़े होकर फिर से मुख्यमंत्री के पद को संभाला। दिसंबर 1999 में उन्होंने विधानसभा भंग करा दी और विधानसभा चुनाव बीतने के बाद 2 मार्च 2000 को ओम प्रकाश चौटाला 5वीं बार मुख्यमंत्री बन गए। और फिर समय बीतता गया और ओम प्रकाश चौटाला 5 सालो तक मुख्यमंत्री बने रहे।

ओम प्रकाश चौटाला

ओम प्रकाश चौटाला का परिवार ?

ओम प्रकाश चौटाला का विवाह स्नेह लता नामक लड़की से हुआ जिसके बाद उनके दो बेटे हुए जिनका नाम अजय चौटाला और अभय चौटाला रखा गया और कुछ समय बाद ही ओम प्रकाश चौटाला की पत्नी का देहावशान हो गया।

और फिर इनके बेटा का भी विवाह हुआ जिसमे से अजय चौटाला जो की ओम प्रकाश चौटाला के बड़े बेटे थे उनका विवाह नैना चौटाला से हुआ और छोटे बेटे का विवाह कांटा चौटाला नामक लड़की से हुआ और फिर बात आती है ओम प्रकाश चौटाला की बेटियों की तो इनकी 3 बेटियां भी थी जिनका नाम – सुचित्रा, सुनीता और अंजली है।

कुछ वक्त बीतने के बाद ओम प्रकाश चौटाला के बड़े बेटे अजय सिंह चौटाला 2009 में डबवाली से विधायक के पद के लिए चुने गए और ऐसे ही समय बीतने के बाद साल 2012 में यह अपने पिता के साथ जेल में बंद हो गए। ओम प्रकाश चौटाला का छोटा बेटा अभय ऐलनाबाद से विधायक चुना गया जो की अक्टूबर 2014 से मार्च 2019 तक हरियाणा विधानसभा के विपरीत पार्टी और इसके विपक्ष में नेता रहे।

अजय चौटाला जो की ओम प्रकाश चौटाला के बड़े बेटे है उनके बेटा जिसका नाम दुष्यंत चौटाला इस वक्त हरियाणा के उपमुख्यमंत्री के पद पर है। 2018 में किसी पारिवारिक विवाद के चलते दुष्यंत को इनेलो से निस्काशित कर दिया गया और इसके बाद ही दुष्यंत ने ख़ुद की एक पार्टी बनाई और उसका नाम जननायक जनता पार्टी रखा।

ओम प्रकाश चौटाला की संपत्ति ?

ओम प्रकाश चौटाला के पास लगभग हजार करोड़ की संपत्ति है ऐसा दावा किया जा रहा है जिसकी वजह से सीबीआई ने चौटाला परिवार के खिलाफ 1467 करोड़ की संपत्ति के मामले में चार्जसीट दायर की थी। और ऐसा बताया जा रहा है की चौटाला परिवार की संपत्ति 1467 करोड़ है। और इस संपत्ति में 80 से ज्यादा तो सिर्फ और सिर्फ पार्टी ही है।

यह भी पढ़े: जाने KIA EV6 के बारे में अचंभित कर देने वाली बाते

Leave a Reply

Your email address will not be published.