monkeypox के बारे में
जानकारी लेटेस्ट

Monkeypox जाने लक्षण और फैलने के कारण 2022

Monkeypox जानवरों से मानवों में फैलता है, वैसे ये इलाज की दृष्टि से कम गंभीर होता है। 1980 में चेचक के उन्मूलन और उसके बाद में स्मॉल पॉक्स के टीकाकरण की समाप्ति के साथ मंकीपॉक्स (Monkeypox) सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए ये बहुत गंभीर समस्या बनकर उभरा है। यह वायरस एक डबल-स्ट्रैंडेड DNA वायरस है जोकी पॉक्स विरिडे परिवार के ऑर्थो pox वायरस जीनस से संबंधित है। तो आइए इस पोस्ट के माध्यम से इस समस्या के बारे में और अधिक जानकारी ग्रहण करते हैं।

क्या है monkeypox, क्यों पड़ा ये नाम?

Monkeypox मानव चेचक के तरह एक दुर्लभ वायरल संक्रमण है । यह पहली बार 1958 में शोध के लिए रखे गए बंदरों में पाया गया था । इसलिए इसे monkeypox के नाम से जाना जाता है । जबकि monkeypox से मनुष्यो में संक्रमण का पहला मामला 1970 में दर्ज किया गया था । ये रोग मुख्य रूप से मध्य और वेस्ट अफ्रीका के उष्ण कटिबंधीय वर्षावन के एरिया में पाया जाता है और कभी-कभी दूसरे अन्य क्षेत्रों में भी ये पहुंच जाता है ।

किन जानवरों से फैलता है monkey pox?

बहुत से जानवरों की प्रजातियों को monkeypox वायरस के लिए जिम्मेदार माना जाता है। इन जानवरों में रस्सी गिलहरी, पेड़ गिलहरी, गैम्बिया पाउच वाले चूहे, डर्मिस, गैर-मानव प्राइमेट और अन्य प्रजातियां शामिल हैं। Monkeypox वायरस का प्राकृतिक इतिहास पर अनिश्चितता बना हुआ है और इनके प्रकृति में बने रहने के कारणों की पहचान करने के लिए आगे के अध्ययन की ज़रूरत है।

सर्वप्रथम monkey pox कहां पाया गया था ?

मनुष्यो में मंकीपॉक्स की पहचान सबसे पहले 1970 में रिपब्लिक ऑफ कांगो में एक 9 साल के लड़के में हुआ था, जहां 1968 में small pox को जड़ से खत्म कर दिया गया है । तब से , ज्यादातर मामले ग्रामीण, वर्षावन क्षेत्रों से सामने आ रहा हैं। कांगो बेसिन, विशेष रूप से कांगो के लोकतांत्रिक गणराज्य में और मानव मामले पूरे मध्य और वेस्ट अफ्रीका से तेजी से सामने आए हैं।

इसके क्या लक्षण है ?

Monkey pox के संक्रमण से लक्षणों की शुरुआत तक आमतौर पर 6 से 13 दिनों तक होता है, परंतु यह 5 से 21 दिनों तक हो सकता है। बुखार, तेज सिरदर्द, लिम्फ नोड्स की सूजन, पीठ दर्द, मांसपेशियों में दर्द और एनर्जी की कमी जैसे आदि लक्षण दिख सकते है इसकी विशेषता यह हैं कि ये पहले स्मॉल पॉक्स की तरह ही दिखाई पड़ते हैं। इसके साथ ही त्वचा का फटना आमतौर पर बुखार दिखने के 1-3 दिनों के अंदर शुरू हो जाता है। दाने गले के बजाय चेहरे और हाथ-पांव पर ज्यादा केंद्रित होते हैं। यह चेहरे और हाथों की हथेलियों और पैरों के तलवों को अधिक प्रभावित करता है।

एक्सपर्ट क्या कहते हैं, Monkeypox के बारे में?

हैदराबाद के यशोदा हॉस्पिटल में सलाहकार डॉ मोनालिसा साहू ने कहा, “monkeypox एक दुर्लभ जूनोटिक बीमारी है जो Monkeypox वायरस के संक्रमण के कारण होता है । monkeypox वायरस पॉक्सविरिडे परिवार से संबंधित है, जिसमें चेचक और चेचक की बीमारी पैदा करने वाले Virus भी शामिल हैं । ”

Monkeypox संक्रमण कैसे होता है?

Monkeypox किसी भी संक्रमित व्यक्ति या जानवर के निकट संपर्क के माध्यम से या वायरस से दूषित सामग्री के जरिए मनुष्यों में फैलता है । ऐसा माना जाता है कि यह चूहों, चूहियों और गिलहरियों जैसे जानवरों से फैलता है ।

यह बीमारी घावों, शरीर के तरल पदार्थ, श्वसन बूंदों और गंदी सामग्री जैसे बिस्तर के ज़रिए से फैलता है । यह वायरस चेचक की तुलना में कम संक्रामक होता है और कम गंभीर बीमारी का कारण बनता है ।

Monkeypox का इलाज

अगर monkey pox का शक है, तो स्वास्थ्य कर्मियों को एक उपयुक्त नमूना इकट्ठा करना चाहिए और इसे उचित क्षमता के साथ एक प्रयोगशाला में सुरक्षित रूप से पहुंचना चाहिए। monkeypox की पुष्टि नमूने के प्रकार और गुणवत्ता और प्रयोगशाला परीक्षण के प्रकार पर निर्भर करता है। कारकों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और लोगों को उन उपायों के बारे में शिक्षित करना monkeypox की मुख्य रोकथाम की रणनीति है। Monkeypox की रोकथाम और नियंत्रण के लिए टीकाकरण का आकलन करने के लिए अब स्टडी चल रही है।

अन्तिम शब्द

मैं उम्मीद करता हूं की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपकी जानकारी में वृद्धि हुई होगी यदि आपके मित्र भी इसी तरह पोस्ट को पढ़ना पसंद करते है तो उन्हें भी पोस्ट अवश्य शेयर करें ।

यह भी पड़े: Sarkaru Vaari Paata Review in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.